बुधवार, 18 मई 2011

ओसामा नहीं, पर आतंकवाद जीवित है -- नरेश भारतीय

अमरीका ने ११ सितम्बर २००१ को न्यूयार्क में हुए फिदायीन हवाई हमलों के बाद जिसे अपना सबसे बड़ा शत्रु माना उस विश्व आतंकवादी सरगना ओसामा बिन लादेन को अंतत: इस दुनिया से विदा दे दी. आतंकवाद के विरुद्ध अमरीका की अपनी रणनीति में कथित प्रमुख सहायक देश पाकिस्तान के ही एक नगर एबटाबाद में उसके बरसों से बने हुए और सुरक्षित निवासस्थान पर रात के वक्त हमला करके उसे बिना किसी प्रतिरोध के धराशाई कर दिया गया. अमरीका के जिन हजारों निरपराध लोगों ने एक दशक पहले न्ययार्क स्थित ट्विन टावर्स पर ओसामा निर्देशित आतंकवादी हमलों में अपने प्राणों की बलि दी थी उनके परिवारों को सुकून मिला कि उनके देश के राष्ट्राध्यक्ष ओबामा ने, ओसामा का अंत सुनिश्चित कर, उनकी पीड़ा को राहत दी. अमरीका के लोगों को एक लंबी प्रतीक्षा के बाद ही सही, पुनः आश्वस्त किया कि वह आतंकवाद के समक्ष घुटने नहीं टेकेगा. इस निष्कर्ष को भी विश्व के समक्ष प्रस्तुत किया कि कुछ सिरफिरे लोगों के कारण मानवता के विरुद्ध किए जाने वाले ऐसे कुकृत्यों को सहन नहीं किया जा सकता जो इस्लाम के नाम पर किए जाते हैं. इसी परिप्रेक्ष्य में, वे लोग जो ओसामा बिन लादेन के अमानवीय कारनामों को धर्मसम्मत मानते आये हैं और रक्तपात में विश्वास करते हैं उन्हें अपनी आत्मा से यह सवाल पूछने की आवश्यकता है कि यदि उनके किसी अपने या अपनों को बेवजह मौत के मुंह में धकेल दिया जाए तो उन्हें कैसे लगता है? यदि अच्छा नहीं लगता तो फिर उन्हें क्या हक है कि वे इस युग में भी किसी अन्य धर्म के लोगों की तबाही के फतवे जारी करने की हिमाकत करें?
ऐसे पनपे वैश्विक आतंकवाद पर पश्चिम की अब तक पूर्णत: स्वार्थपरक एकतरफा रणनीति पर भी प्रश्न उठाए जा सकते हैं. समस्या पर नए सिरे से और कहीं अधिक सतर्कता के साथ ध्यान दिए जाने की आवश्यकता प्रतीत होती है. ‘पाकिस्तान आतंकवाद का केंद्र है’, यह जानते हुए भी अमरीका मात्र अपने हित में ही उस सतत विवादग्रस्त देश की छल प्रवृत्ति की उपेक्षा करता रहा है. उसके साथ बंधा ही रहा है. अफगनिस्तान और पाकिस्तान गत अनेक वर्षों से अमरीका की क्षेत्रीय रणनीति के केंद्रबिंदु रहे हैं. कोई समय था जब अफगानिस्तान में पूर्व सोवियत संघ के प्रभाव को मिटाने के इरादे से अमरीका ने इस्लामी मुजाहिदीन को प्रोत्साहन दिया था. पाकिस्तान की सैनिक खुफिया सेवा आई. एस. आई के माध्यम से टनों हथियार रूसियों के विरुद्ध संघर्ष के लिए अमरीका ने अफगानिस्तान में पहुंचाए थे. उसका परिणाम जो हुआ वह किसी से छुपा नहीं है. इस्लामी कट्टरपंथ का बेकाबू होता प्रभाव प्रसार और अमरीका के द्वारा बरसों तक उसकी उपेक्षा किसी से छुपे हुए सत्य नहीं हैं. इसी कट्टरपंथी आतंकवादी भस्मासुर ने अभयदान पाकर पाकिस्तान और अफगानिस्तान की ज़मीन पर भरणपोषण के साथ जब अमरीका के सर पर ही अपना खूनी पंजा बेरहमी के साथ रख दिया तो उसके सृजक को होश आया कि इस्लामी मुजाहिदीन को उसके द्वारा दिया गया अभयदान उसी के लिए घातक बन गया है. अफगानिस्तान के बामियान क्षेत्र में स्थित बुद्ध की प्राचीन मूर्तियों को ध्वस्त करके तालेबान ने विश्व को कट्टरपंथी इस्लाम के प्रसार के अभियान का संकेत दे दिया था.
२००१ की भयावह घटना के बाद ही ओसामा बिन लादेन को अमरीका ने खुल कर अपना घोर दुश्मन घोषित किया और ब्रिटेन के साथ मिल कर उसका पीछा करते हुए अफगानिस्तान तक पहुँच गए. ठीक उसी वर्ष १३ दिसम्बर २००१ को भारत के संसद भवन पर पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी हमला हुआ था. भले ही सतर्क सुरक्षा कर्मियों ने बहादुरी के साथ उसे असफल कर दिया था, लेकिन वह घटना भी उसी एक सत्य की पुष्टि थी जो उभर कर विश्व को आने वाले खतरों से सचेत कर रहा था. भारत में इस घटना के बाद बहुत हो हल्ला हुआ था. भारी बयानबाजी हुई थी. घटना में पाकिस्तान का हाथ होने के सबूत मिले होने के बावजूद वह उससे इनकार करता रहा. ‘आर पार की लड़ाई’ होने की संभावनाएं जताई गयीं. लेकिन अंतत: भारत को अमरीका के दबाव के कारण इस अपमान का कड़वा घूँट पीकर चुप बैठ जाना पड़ा इस कारण से क्योंकि अमरीका को कतई यह स्वीकार्य नहीं था कि अपने राष्ट्रीय अपमान का बदला लेने के लिए जो लड़ाई वह अफगानिस्तान में लड़ रहा था उसमें भारत द्वारा पाकिस्तान के विरुद्ध संभावित किसी भी सैनिक कारवाई से कोई व्यवधान हो. लेकिन भारत का दुर्भाग्य यह है कि वह अफजल गुरु जैसे अपराधियों तक को सज़ा नहीं दे पाता जिन्हें मृत्युदंड देने का फैसला अदालत सुना चुकी है. जितनी बार आतंकवादी हमले हुए हैं वैसी ही स्थिति देखने को मिलती रही है. भारत का पाकिस्तान पर आरोप, पाकिस्तान का होशियारी से इनकार, अमरीका द्वारा भारत के संयम की प्रशंसा और उसके बाद बात का आई गयी हो जाना. क्या भारत के लिए अपने राष्ट्रीय अपमान का बदला स्वयं लेना कोई महत्व नहीं रखता?
१० वर्षों के बाद ही सही, लेकिन अमरीका ने अपने राष्ट्रीय अपमान का बदला अपने ध्रुव शत्रु ओसामा बिन लादेन को मार कर ले ही लिया. लेकिन इसके विपरीत यदि यह सच है कि भारत बार बार होने वाले अपने राष्ट्रीय अपमान को सहन करने के लिए पश्चिमी ताकतों द्वारा विवश किया जाता रहा है तो यह पश्चिम की अनैतिकता और भारत की अपनी चारित्रिक कमजोरी है. क्या अब वह वक्त नहीं है कि ओसामा के जाने के बाद आने वाले महीनों और वर्षों में आतंकवाद के और प्रसार के संभावित खतरों का सही आकलन भारत समेत सभी आतंकवाद प्रभावित देशों द्वारा किया जाए? क्या अब यह समय उपयुक्त नहीं है कि अमरीका और अन्य पश्चिमी देश अपनी रणनीति का व्यापक परिप्रेक्ष्य में पुनरमूल्यांकन करें? हर प्रसंग में और हर जगह विश्व के थानेदार होने की स्वैछिक भूमिका निभाने का उपक्रम करने वाले अमरीका और नैटोसंधि के देशों के लिए अब यह सोचने की महती आवश्यकता है कि उनकी अपनी सुरक्षा और हित ही सर्वोपरि नहीं हो सकते. पाकिस्तान आतंकवाद का केंद्र है यह जान कर भी मात्र अपनी क्षेत्रीय महत्वाकाक्षाओं की पूर्ति के लिए भारतीय उपमहाद्वीप को इस्लामी आतंकवाद के प्रसार की आग में झोंक देने का अधिकार अमरीका को नहीं दिया जा सकता. पाकिस्तान ने अमरीका को ही कितनी बार असत्य भाषण और दोहरी चाल खेल कर कितना धोखा दिया है यह अब उसके लिए सुस्पष्ट हो गया होना चाहिए और यदि उसके बाद भी उसके द्वारा पाकिस्तान का भरण पोषण जारी रहता है तो अमरीका के दोहरेपन को भी भारत द्वारा चुनौती दी जानी चाहिए.
इस समय जब कुछ क्षेत्रों में यह बहस उभारने की कोशिश की जा रही है कि ओसामा को मारा नहीं जाना चाहिए था बल्कि न्याय के कटघरे में खड़ा किया जाना चाहिए था. ओबामा का अमरीकी प्रशासन उस द्वारा की गयी सैनिक कारवाई के व्यापक जन समर्थन और आतंकवादी तत्वों द्वारा प्रतिक्रियास्वरूप किए जाने वाले हमलों की धमकियों के ठीक बीच खड़ा स्थितिविकास को भांप रहा है. पश्चिमी देशों में ऐसे खतरों का सामना करने की पुरजोर तैयारियां की जा रही हैं. भारी सतर्कता बरती जा रही है. और दूसरी तरफ बदला लेने की घोषणाएं करते हुए ओसामावादी अपनी भुजाओं का बल प्रदर्शित करने को उतावले हैं. इस बीच अमरीकी नेतृत्व उत्सुकता से यह जानने की प्रतीक्षा में है कि ओसामा के बाद कट्टरपंथी इस्लामी संगठन अलकायदा की कमान कौन संभालता है. ओसामा को इस्लाम का नायक शहीद सिद्ध करने की कोशिश में इस्लामी जगत में अमरीका विरोधी प्रदर्शन यत्र तत्र हुए हैं.
फिलस्तीन समेत मध्यपूर्व के अनेक देशों में लोगों ने ओसामा के अमरीकियों के हाथों मारे जाने पर अपने आक्रोश को मुखर अभिव्यक्ति दी है. पाकिस्तान में जहां उसका अंत हुआ अमरीकियों की इस कारवाई की निंदा की गई. उन्हें इस्लाम का श्रेष्ठतम शहीद तक बताया गया और यह दावा किया गया उसकी मौत के फलस्वरूप कट्टरपंथ को और बढ़ावा मिलेगा. मुल्तान में अमरीकी ध्वज को जलाया गया और अमरीका से मुजाहिद्दीन द्वारा प्रतिशोध लेने की कसमें दोहराई गयीं. एबटाबाद में जहां उनका निवासस्थान बना था उसे ओसामा स्मारक बनाने के संकल्प की बात कही गयी. अमरीका पर यह आरोप लगाया गया कि उसने अरब सागर में ओसामा को दफना कर सही नहीं किया. उस स्थान को शहीद सागर का नाम देने की बात कही. इसी तरह अफगानिस्तान में भी ओसामा और उनके उसूलों के प्रति व्यापक समर्थन जतलाया गया और तालिबान के अमरीकियों के विरुद्ध संघर्ष को तेज करने की सम्भावना जतलाई गयी. क्या निष्कर्ष लिया जाएगा इससे? मन को समझाने के लिए क्या यह कि मात्र इने गिने ओसामावादियों की प्रतिक्रिया कोई माने नहीं रखती? या फिर यह कि खतरा ओसामा के जाने के बाद खत्म नहीं हुआ है बल्कि बढ़ा है.
क्या हजारों निहत्थे-निरपराधों की मौत इन अंधविश्वासी इस्लामी कट्टरपंथियों के लिए कोई महत्व नहीं रखती जो बिना सोचे समझे फतवों की संस्कृति को अपनाए हुए हैं. क्या जिहाद के नाम पर उनकी हत्याएं करने का हक भी स्वत: उन कट्टरपन्थी तत्वों को मिल जाता है जिनका किसी प्रकार की भी धर्मान्धता या कथित अमरीकापरस्ती से कोई लेना देना नहीं होता. अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने राष्ट्रधर्म का पालन करते हुए अपने देश के अपमान और अपने हजारों नागरिकों की दुर्दांत हत्याओं का बदला देश के कथित शत्रु ओसामा को मार कर लिया. लेकिन क्या इस तरह से बदले पर बदले की इस युग में प्रस्थापित की जा रही नवपरम्परा मानवता के सर्वनाश का पथ प्रशस्त करने वाली तो सिद्ध नहीं होगी? यदि सतर्कता न बरती गयी और इस्लाम के कट्टरपंथी तत्वों को सही रणनीति से थामा नहीं गया तो उनके द्वारा संस्कृतियों का संघर्ष करने का अनथक प्रयास आने वाले वर्षों में कई नए गुल खिला सकता है.
भले ही बराक ओबामा ने यह कह कर अपनी तरफ से सूझ बूझ का परिचय दिया है कि उनकी लड़ाई इस्लाम के विरुद्ध नहीं है लेकिन इसमें कोई शक नहीं कि ओसामावादी इतनी आसानी से अपने जिहाद प्रेरणापुरुष को विस्मृत नहीं होने देंगे. ओसामा भले मर गया है लेकिन उसके द्वारा पोषित आतंकवाद अभी जीवित है. यत्र तत्र चिन्गारियां फूटेंगी और शोले भड़केंगे. रहस्योदघाटन किया गया है कि ओसामा अंतिम क्षण तक पाकिस्तान स्थित एबटाबाद से अलकायदा का पूर्ण संचालन कर रहा था. और कड़वी सच्चाई यह भी है कि ओसामा के अनुयाई या समर्थक अमरीका, ब्रिटेन और अन्य पश्चिमी देशों और भारत में भी जगह जगह छाए हुए हैं. वर्ष २००३ में मैंने स्थितियों का आकलन करते हुए अपनी पुस्तक ‘आतंकवाद’ में स्पष्ट यह लिखा था कि “आतंकवाद का जो स्वरुप वर्तमान में विश्व के समक्ष प्रकट हुआ है वह छिटपुट हिंसात्मक घटनाओं से भिन्न है. इस पर भी हर छोटी बड़ी रक्तपात पूर्ण घटना एक व्यापक आतंकजाल का अंग है जिसने अनेक देशों को फांस लिया है. स्थान स्थान पर फैले हुए आतंकवादी संगठन भले ही एक विकेन्द्रीकृत व्यवस्था के अधीन सक्रिय हैं लेकिन अधिकांश का संचालन-सूत्र अब केंद्रीयकृत हो चुका है. यह केंद्र बिंदु है एक ऐसी मजहबी सोच जिसके वशीभूत स्वचालित मशीनों की तरह आतंकी अनेक देशों में नगरों, कसबों के गली, मुहल्लों, दफ्तरों, सार्वजनिक परिवहन सुविधा केन्द्रों, हवाई अड्डों और यहाँ तक कि भारी सुरक्षा वाले सैनिक-असैनिक, सरकारी गैर सरकारी संगठनों के कार्यालयों, कालेजों स्कूलों और विश्वविद्यालयों में शिक्षण प्रशिक्षण प्राप्त करते हुए सुनिश्चित कार्य योजनाओं के अनुगत आदेश निर्देश पाने की प्रतीक्षा में रहते हैं.”
बाद के वर्षों में जो कुछ हुआ है वह सर्वविदित है. ओसामा बिन लादेन का उतराधिकारी का पद, जैसा कि अटकलें हैं, यदि अमरीका में जन्में या पढ़े लिखे किसी कट्टरपंथी इस्लाम परस्त अमरीकी अरब को मिलता है तो उपरोक्त विश्लेषण के दृष्टिगत इसमें आश्चर्य की कोई गुंजायश नहीं होगी. इस तरह पनपे आतंकवाद के विरुद्ध विश्व को एक लंबी लड़ाई लड़ना पड़ सकती है क्योंकि ओसामा का अंत आतंकवाद का अंत निश्चय ही प्रतीत नहीं होता. इस बीच यह नितान्त आवश्यक है कि आतंकवाद प्रभावित देश शत्रु मित्र की सही पहचान करते हुए एक साँझा रणनीति निर्धारित करने की दिशा में अपने कदम आगे बढ़ाएं. यदि बार बार यह स्पष्ट होता चला गया है कि कौन सा देश वस्तुत: आतंकवाद का पोषक केंद्र है जहां स्थित प्रशिक्षण केन्द्रों से जिहादी फिदायीन तैयार करके विश्व भर में भेजे जाते रहे हैं तो उसके विरुद्ध सीधी कारवाई जब तक नहीं की जायेगी, जब तक उसे करोड़ों अरबों डालरों की रकमें, जो अमरीका और ब्रिटेन द्वारा बरसों से दी जाती रहीं बंद नहीं की जातीं, आतंकवाद नहीं थमेगा. पाकिस्तान पश्चिम के दोहन की कला में प्रवीण है और परमाणु बम के प्रयोग की धमकी देकर दोहन को जारी रखने का प्रयत्न करेगा लेकिन इसका हल अमरीका और उस नैटो को करना होगा जो उसके पृष्ठपोषक रहे हैं.
प्रवक्ता.कॉम पर प्रकाशित नरेश भारतीय का लेख 
नरेश  भारतीय  के  बारे  में  विस्तृत जानकारी के लिए क्लिक करें.  

शुक्रवार, 13 मई 2011

ब्लागर भाइयों को हमरा भोजपुरिया सलाम-- हरीश सिंह

जौनपुर ब्लोगर असोसिएसन के सभी भाइयों को मेरा प्रणाम,
    प्रिय साथियों जब भी किसी परिवार में पहले दिन आगमन होता है तो परिवार के सभी सदस्यों को परिचय देना व लेना आवश्यक होता है. यह सामुदायिक ब्लॉग मुझे कई मायनो में अच्छा लगा, मैं मासूम जी का शुक्रगुजार हूँ की उन्होंने हमें इस परिवार में आने का न्योता दिया. जिस शहर के नाम पर यह संगठन बना है वह अपने नाम के अनुरूप कार्य भी कर रहा है. जौनपुर शहर की पूरी जानकारी मिल गयी, मुझे इस ब्लॉग से प्रेरणा भी मिली, जिसका प्रयोग मैं कही न कही अवश्य करूँगा. 
मेरा परिचय यही है की मैं थोडा क्रन्तिकारी स्वाभाव का हूँ , मुझे आप बुरे नहीं लगेंगे,  पर आपके विचार जहाँ पर हमें गलत लगे वहा सवाल अवश्य करेंगे, और उसे मैं विवादित विषय नहीं मानता. क्योंकि बिना खुलकर बात किये समाज में समरसता नहीं आएगी.
हल्ला बोल पर एक पोस्ट प्रकाशित हुयी... जिसे blogteknik महोदय ने प्रस्तुत किया है. 

हमने हिन्दुस्तान पर 800 साल हुकूमत की है।

उस पोस्ट पर मेरा कमेन्ट यह था और यही मेरी मानसिकता भी है. मैं धर्म को विवाद नहीं ज्ञान का स्रोत मानता हूँ और ज्ञानरूपी चर्चा तो होनी ही चाहिए. मेरा कमेन्ट. ...............

यहाँ पर कई लोंगो के कमेन्ट से सहमत हूँ.बल्कि कहें तो मै सभी के कमेन्ट से सहमत हूँ. ... मेरा एक फार्मूला है मैं उसी पर काम करता हूँ.शब्दों पर नहीं भावो पर ध्यान  देना चाहिए. और सबके भाव वही है. यह पत्र झूठा भी हो सकता है. और यदि झूठा है तो कोई मुस्लिम यहाँ सफाई देने क्यों नहीं आया. मैं हमेशा गलत  बातों का विरोधी रहा हूँ और रहूँगा.  इस पत्र की लिखावट साफ तौर पर किसी मुस्लिम की है. आज अधिकतर हिन्दू अपने ही धर्मशास्त्रो के बारे में नहीं जानते तो कुरान या इस्लाम के बारे में क्या जानेंगे. आज इस पत्र में जो लिखा है, वही  मुस्लिमो के प्रति अधिकतर  हिन्दुओ की धारणा है. और यही धारणा कम पढ़े लिखे मुसलमान भी रखते हैं. जिसकी वजह से अधिकतर लोग बाबर और लादेन को ही अपना पूर्वज मानते है. उनके हीरो वीर अब्दुल हमीद, कलाम साहब जैसे लोग नहीं है, बल्कि सद्दाम और मुशर्रफ जैसे लोग है, जो कसाब को हीरो बनाता है.
इसके विपरीत कोई भी हिन्दू रावण को अपना हीरो नहीं मानता, जबकि रावण एक उच्चकुलीन ब्राहमण था, कंस को अपना आदर्श नहीं बनाता, आज कोई अपने बच्चो का नाम  कंस, रावण, शकुनी, विभिसन, दुर्योधन, कुम्भकरण, जैसे नाम नहीं रखता, आज लादेन, मुशर्रफ और सद्दाम गली- गली मैली -कुचैली नेकर पहने मिल जायेंगे क्योंकि उन्हें यह नहीं बताया जाता की लादेन और बाबर क्या  है, पाकिस्तान हम मुसलमानों के बारे में क्या सोचता है, जाती या धर्म से कोई आदर्श नहीं बनता, यह सोचना होगा.  कोई  हिन्दू  ब्राह्मन  कुल में जन्मे रावण को नहीं बलिक क्षत्रिय कुल में जन्मे मर्यादापुरुसोत्तम श्रीराम को अपना आदर्श मानता है. यादव कुल में गायों के साथ खेलने वाले, अनपढ़ ग्रामीणों के साथ रहने वाले योगदिदेव भगवान श्री कृष्ण को अपना आदर्श मानता है. कोई भी हिन्दू श्री कृष्ण के बालरूप को पूजना चाहता है. रक्षा के लिए सुदर्शन चक्र की फोटो लगाता है, कंस के वध को नहीं, सिर्फ धर्म के नाम पर, जाति के नाम पर हिंसा का समर्थन  करने वाला व्यक्ति मेरे लिए निंदनीय है क्योंकि उसे मैं हिन्दू या मुसलमान नहीं मानवता का दुश्मन मानता हूँ. इंसानियत का दुश्मन मानता हूँ. ऐसी बातो को आज लोग कोने में फेंक देते है, ऐसे कागज़ जला दिए जाते है, जो बाते आपस में विद्वेस पैदा करती है, उस बारे में हम चर्चा  नहीं करना चाहते, और यह बात भी मुझे बुरी लगती है.
मैं आपको बता दू, मैं अपने किसी परिचित या मित्र से बात करता हूँ तो एक बात साफ कर देता हूँ, भैया मेरी बाते जो भी तुम्हे बुरी लगे वह मुझी से कहना, हो सकता है तूम ग़लतफ़हमी में हो, मैं तुम्हारी ग़लतफ़हमी भी दूर कर सकता हूँ. और अपनी भूल का एहसास हुवा तो माफ़ी भी मांग लूँगा. पर वही बाते लेकर तुम अन्दर ही अन्दर घुटते रहे तो यह खतरनाक भी हो सकता है.
और वह बाते हमारे लिए खतरनाक  बन चुकी है, विवाद के नाम पर हम चुप्पी साध लेते हैं. आज़ादी की लड़ाई हमने  भले ही साथ लड़ी हो किन्तु देश आजाद होने के साथ टुकडो में बंट गया. और इसी समय हमारे दिल भी बंटे थे जिन्हें जोड़ने का नहीं बल्कि दूर रखने का प्रयास किया गया, जो बातो हमारे दिलो में कचोटती हैं हम उनका जिक्र करने से भी परहेज़ करते है. जब तक हम, खुलकर बात नहीं करेंगे,, हम एक दूसरों को समझा नहीं सकते, गीता अधर्मियों और असत्य को नाश करने की बात कहती है तो कुरान काफिरों को को ख़त्म करने की बात करती है. मेरी निगाह में काफ़िर वह है जो धर्म को न मानता हो, और  अधिकतर हिन्दू यह शब्द खुद से जोड़ लेता है. क्योंकि वह काफ़िर यानि धर्मनिरपेक्ष  यानि सेकुलर यानि अधर्मी बना हुआ  है. यदि सभी हिन्दू मुसलमान धार्मिक हो जाय, अपने धर्म को जान ले ताकि किसी भी धार्मिक सवाल पर हम उचित जवाब दे सके, भारत पाकिस्तान हमेशा बात करते है पर समझौता नहीं हो पाता  क्योंकि वे एक दूसरे को समझा नहीं पा रहे है. क्योंकि आम जनता भी यही चाहती है, क्योंकि हम जो बाते छोटे स्तर पर नहीं कर पर रहे है वह बड़े स्तर पर कैसे होगी. ऐसी पोस्ट जो भी आती है उस पर मुस्लिम ब्लोगरो को जवाब देना चाहिए, यदि नहीं देते है तो लोंगो के मन में शक बना रहेगा की मुस्लिम इस बात का समर्थन करते है,

लोग मुझे विवादित कहते हैं, हिन्दू भी गरियाता है तो मुसलमान भी कोसता है. हालाँकि किसी मुस्लिम ब्लोगर ने खुलकर तो नहीं मन ही मन गरियाया पर भैया अपने लोंगो ने तो जमकर ..... 
अब आप लोग फैसला कर ले की मैं आपके परिवार में रहने लायक हूँ की नहीं यदि नहीं तो क्यों.........? 

हरीश सिंह 
संस्थापक संयोजक ...  "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" यह एक सामुदायिक हिंदी ब्लॉग है, जिसका लेखक विश्व के किसी कोने में रहने वाला भारतीय हो सकता है. नियम व शर्ते लागू.
संस्थापक संयोजक ...  "पूर्वांचल ब्लोगर असोसिएसन " यह एक सामुदायिक हिंदी ब्लॉग है, जिसका लेखक विश्व के किसी कोने में रहने वाला पूर्वांचल निवासी  हो सकता है. नियम व शर्ते लागू.
प्रमुख प्रचारक......  आल इण्डिया ब्लागर असोसिएसन व लखनऊ ब्लागर असोसिएसन
 मेरे अन्य ब्लॉग ... 
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ


 हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम इंटरनेशनल 
हल्ला बोल

ये ब्लॉग अच्छा लगा
  POORVANCHAL PRESS क्लब

मैं हमेशा चर्चा करने के लिए तैयार हूँ, आप हमसे टिपण्णी या मेल भेजकर वार्ता कर सकते हैं. मेरा मेल पता है.

 editor.bhadohinews@gmail.com

सोमवार, 9 मई 2011

माफियागिरी - न काहू से दोस्ती न कहू से बैर

दोस्तों शिखा जी की पोस्ट पर टिपण्णी कर रहा था, कुछ अधिक हो गया तो आपसे भी गूफ्तगू कर लूं.

ब्लोगर सम्मान परम्परा का ढकोसला बंद कीजिये !'  शिखा जी की पोस्ट


आज पहली बार किसी की प्रशंसा खुले दिल से करने की हो रही है. शिखा जी एक कहावत बहुत पहले सुनी थी. "आन्हर बांटे रेवड़ी, घूमी घूमी के खाई." आप जानती हैं मैं मार्च माह से ही काफी परेशान  चल रहा हूँ. निश्चित रूप से जिस दौर से मैं गुजर रहा हूँ. ऐसे दौर में नेट पर बैठना मुमकिन नहीं है. फिर भी आपने सुना ही होगा, चोर चोरी से जाय पर हेरा-फेरी से न जाय. जब भी समय मिलता मैं यहाँ आ जाता और किसी न किसी ब्लॉग पर टिपण्णी करता और चल देता. लिखने का मन नहीं हो रहा था. कल यानि ७ मई  की शाम को मेल चेक कर रहा था तो देखा लखनऊ में कोई सम्मान समारोह है. इसके पहले रविन्द्र जी ने अपना समारोह रखा था और सम्मान भी लिया था, शिखा जी, आज जब आपकी पोस्ट पढ़ी तो आप पर बहुत ही गुस्सा आया, यदि आप सामने होती तो निश्चित रूप से आपका और हमारा झगडा हो जाता, आपकी लेखनी मैं इतना पसंद करता था की आपको महाभारत जितवा दिया, हो सकता है दूसरी महाभारत की  बाज़ी भी आप जीत जाती. पर आप ने तो हमें ही धोखा दे दिया. और हद है आपका साथ आशुतोष और शालिनी जी भी दे रही हैं. आप लोंगो ने मेरे साथ विश्वासघात किया, मैं सोचा था की १५  मई को धमाके दार पोस्ट के साथ वापसी करूँगा.
पर जो बातें मैं लिखने वाला था उसे आपने ही लिख दिया. खैर छोडिये जो करना था आपने कर दिया, मैं लेट हो जाता, वाही कम आपने समय पर किया, लोहा गरम था भैया आपने चला दी कुल्हाड़ी, अब लगी की नहीं भगवान  जाने..  

मुझे भी समझ में नहीं आया की सम्मान किस बात का. ....
अब वह बाते तो मैं नहीं लिख सकता पर कुछ प्रश्न आप से  कर रहा हूँ.... आशा है जवाब मिलेगा.. कम से कम आप तो जरुर जवाब दीजियेगा....
@ आपने कहा सम्मान देने का आधार क्या है.........? और मैं कह रहा हूँ सम्मान समारोह ही कहा था.......?
@ रविन्द्र जी का  कार्यक्रम " पुस्तक बिमोचन" का था और सलीम का कार्यक्रम इस्लामिक समारोह था. यदि नहीं तो जवाब दीजिये..............>
@ यदि हिंदी ब्लोगरो का कार्यक्रम था तो पोस्टर और बैनर उर्दू में क्यों लिखे गए थे..?
@ कार्यक्रम की रूपरेखा निश्चित तौर पर बहुत पहले बनी होगी. पर LBA  और AIBA  और जुड़े ब्लोगरो को सूचना समय से क्यों नहीं दी गयी. यदि दी गयी थी तो विरोध क्यों हुवा और कितने ब्लागर इस कार्यक्रम में पहुंचे. क्या मौजूदा दौर में सिर्फ सलीम और अनवर ही दो ब्लागर है जो सम्मान के काबिल है और किसी ब्लोगर का सम्मान नहीं है. कार्यक्रम के फोटो खुद ही इस कार्यक्रम की पोल खोल रहे हैं. तक़रीर को ब्लागर सम्मान समारोह क्यों कहा जा रहा है. अरे भैया लोग अब लोग उतना बेवकूफ नहीं बाटें हो..  " अरे भैया कहे फ़ोकट का मगजमारी करे खुद पकाय लेव खुद ही खाय लेव"
@ इस तरह हर ब्लोगर चाहेगा की वह 5 नेताओ को बुलाये 2  पत्रकार बुलाये हो गया सम्मान समारोह. यदि हमें ऐसा करना हो लखनऊ तो छोडिये, भदोही में ही उससे अच्छा कार्यक्रम कर लू, दू चाट ठे मंत्री नहीं बलिकी बम्बईया से कुछ नचनिया भी  बुला लूं.
@ हम तो शिखा जी बहुत गालियाँ खाते हैं. कभी सलीम या अनवर बिना सुनाये देते हैं तो कुछ लोग चिल्ला चिल्ला के दे जाते हैं. हिन्दू के खिलाफ बोला तो " सेकुलर" कहाया, मुसलमान के खिलाफ बोला तो "सांप्रदायिक"  कहा गया, बस यही एक परेशानी है. सच बोलने वाले के सामने..
@ आईये कुछ ब्लोगर सम्मान की घोषणा मैं करता हूँ. ..
???????????   सबसे चर्चित ब्लागर  २०११  हरीश सिंह .... अब बताईये २०१० में मुझे कोई नहीं जानता था. बमुश्किल दो चार लोंगो को छोड़ कर. और २०११ में कोई एक नाम बताईये जो उभर कर आये हो और व्यक्तिगत परेशनियों को झेलते हुए चर्चा में बना......... कम से कम भी तो जाने कौन धुरंधर है. 
?????????????  सबसे सहनशील ब्लागर २०११  हरीश सिंह....... अब बताईये हमें लोंगो ने गालियाँ दी, जयचंद कहा, गद्दार कहा और मैं सबको अपना भाई बनाकर समझाता रहा और माफ़ करता रहा . जबकि मुझे यह भी पता था की परदे के पीछे से मुझे गालियाँ कौन दिलवा रहा है. और यह सिलसिला अभी तक जारी है... कुछ लोग जब सामान्य मामलो पर फ़ोन करते रहते थे और अब नेट पर भी बात नहीं करना चाहते क्यों मुझे यह भी पता है...... पर मुझे सबकुछ मालूम होते हुए भी किसी से शिकायत नहीं है.
?????????? सबसे सक्रिय  ब्लागर   २०११  हरीश सिंह ......... ११ फ़रवरी २०११ को मैंने "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की नीव रखी और इतने कम समय में जितने समर्थक हमने अपने प्रेम व व्यवहार के दम पर बनाये, क्या कोई ब्लागर पूरे ब्लॉग जगत में ऐसा है जो किसी भी सामुदायिक मंच के लिए यह कारनामा कर दिखाया है. यदि है तो उसे मैं "भारतीय ब्लॉग लेखक मंच " की तरफ से सम्मान देने के साथ २००० रूपये का नगद पुरस्कार भी देता हूँ. अपना दावा वह ५ दिन के अन्दर करे,
@ शिखा जी, ब्लॉग पुरस्कार का चयन कैसे होता है यह  मैं लोंगो को दिखाऊंगा. ..
@ सच तो यह है की ब्लॉग के नाम पर हो रही राजनीती ब्लोगिंग को ख़तम कर रही है. पहले ब्लागर  अपनी पहचान खुद बनाये . कोई ऐसा कार्यक्रम बताईये जहाँ किसी ब्लोगर को बुलाकर लोंगो को गर्व हुवा हो की भाई हमारे कार्यक्रम में ब्लागर  आया है. जिस तरह नेता कैमरा लटकाए पत्रकारों को देखकर खुश होता है उसी तरह ब्लागर पत्रकारों को बुलाकर खुश होता है. हम तो पत्रकारों और छुटभैये नेताओ से भी गए गुजरे हैं. जो हम उनको सम्मान देते है. किस बात का सम्मान ले रहो हो यारों. जिस ब्लागर ने जिस उपलब्धता पर पुरस्कार लिया है मुझे अपनी खाशियत बताये यदि उसमे दम है तो मैं उससे अच्छी खाशियत का ब्लागर ढूंढ के लाऊंगा . यह पोस्ट मैं अपने ब्लॉग पर ब्लोगिंग माफिया की श्रेणी में रखूँगा क्योंकि मेरी निगाह में यह माफियागिरी ही है,.
शिखा जी मैं यह टिपण्णी लिख रहा था पर क्या करें पोस्ट बन गयी. और हमारी बाते ख़त्म भी नहीं हुयी. फ़िलहाल एक अच्छी पोस्ट के लिए बधाई. अब रहा नहीं गया लिख दिया पर आपकी राय पढने १५ मई को ही आ पाउँगा. ॐ शांति ..
" बड़े भैयियो माफ़ कर दिहा यारां.. क्या करे बिना कहे हो जाता है मितरां, आदत नू परेशां होवे.