रविवार, 10 अप्रैल 2011

हाँ "किलर झपाटा"... हरीश सिंह एक सच्चा मुसलमान है....

माफियाओं के चंगुल में ब्लागिंग -३

क्या इसी सभ्यता पर करेंगे हिंदी का सम्मान [ तीसरा भाग ]

ब्लॉगर किलर झपाटा ने कहा…
जमाल बाबू क्यों इतना झुँझला रहे हो यार ? इत्ती लम्बी टिप्पणी की जगह एक पोस्ट ही मार देते जो कोई भी न पढ़ पाता क्योंकि हमारीवाणी से तुम्हें हमने ही तो डिच कराया है। हा हा।
१० अप्रैल २०११ १०:१६ अपराह्न
हटाएँ
ब्लॉगर किलर झपाटा ने कहा…
और ये बुल्ले मुसलमान का फ़ोटो हरीश सिंह के नाम से लगाकर लोगों को क्यों उल्लू बना रहे हो ? हा हा।
१० अप्रैल २०११ १०:१८ अपराह्न

यह  टिप्पणिया "किलर झपाटा" ने मेरी पोस्ट पर की है. बड़े खुश हैं की उन्होंने "अनवर जमाल" को  डिच कराया. बहुत बहादुरी का काम किया है. आपने तो विश्व विजय प्राप्त कर ली, महान हैं आप, आपने तो ऐसा पुनीत काम किया है. भारत सरकार को चाहिए की वह आपको फूल मालाओ से लाद दे.  आपकी जय-जैकार होनी चाहिए. आपके नाम पर अवार्ड घोषित होना चाहिए, क्योंकि आप ही तो वह सख्श हैं जिन्होंने हिन्दुओ को बदनाम किया है, आप जैसे लोंगो की वजह से ही आज मुसलमान हम पर अंगुलिया उठाता है. हम भले ही उसे अपना छोटा भाई कहे पर मुसलमान आज यदि इस पर विश्वाश करने को तैयार नहीं है तो वह आप जैसे लोंगो की देन है. आप जिस हिंदुत्व की बात करते हैं बता सकते हैं की इस हिंदुत्व ने हमसे क्या छीना है. कट्टर हम मुसलमानों को कहते हैं पर कट्टरता हिन्दुओ की नस में भरी है. जो दर्शन सनातन धर्म में था वही दर्शन इस्लाम में है. मुसलमान ही आज के दौर में सनातन धर्म का पालन कर रहा है. हिन्दू तो भटक गया है उसे तो यह भी नहीं पता की उसका धर्म क्या है. 

आप खुद को देख लीजिये, आप जिस चेहरे को प्रदर्शित कर रहे है. ऐसा चेहरा यदि वास्तव में सामने आ जाय तो सभी डर के घरो में छुप जायेंगे. हिन्दू आपकी आरती नहीं उतरेगा. कोशिस करेगा की जल्द से जल्द आप जैसे चेहरे वालो के सर कुचल दिए जाय. असली आतंकवादी आप नजर आ रहे हैं. और हमें अब हमारीवाणी जैसे एग्रीगेटर पर भी आती है. जो आप जैसे घटिया हिन्दुओ की बात मानता है. हमें परवाह नहीं की हमें हमारीवाणी से निकाल दिया गया या निकाल दिया जायेगा. आप जैसे हिन्दुओ से अनवर जमाल लाख गुना अच्छा है. ऐसे लोग हिंदी और हिंदुस्तान को बढ़ावा दे सकते हैं आप जैसे लोग नहीं. अनवर जमाल की टिप्पणिया कभी आपकी तरह अभद्रता समेटे नहीं होती. जो भी बात वे कहते हैं. एक शालीनता के साथ. डॉ. श्याम गुप्ता  जी के पोस्ट पर उनके बहुत कमेन्ट आये, जिस पर विवाद भी पैदा हुआ. उस विवाद की शुरुवात मैंने की थी. उसमे मैंने कई लोंगो को परखा. सिर्फ अनवर जमाल को पढ़ने के लिए मैंने अपने ब्लॉग पर ऐसी पोस्ट लिखी, जिससे हमारी वाणी के हिन्दुओ की ---- फट गयी. उन्होंने हमारे ब्लॉग को हटा दिया, जब हिन्दू बनते हो तो हिम्मत भी रखो क्यों फटने लगती है तुम्हारी. क्यों डरपोक हो जाते हो तुम. जिस पोस्ट ने तुम्हारे छक्के छुड़ा दिए और बिना सोचे समझे हमारी पोस्ट को हटा दिया. उस पर भी अनवर भाई ने शालीनता का दामन नहीं छोड़ा. जो बात हमने उन्हें भड़काने के लिए लिखी थी उस पोस्ट ने हमें खुद हमारी नजरो ने गिरा दिया. अनवर जमाल एक सच्चा मुसलमान है. सच्चा भारतीय है. हिन्दू संस्कृति का सम्मान करने वाला मनु का सच्चा संतान है. 

यदि हमारी वाणी वास्तव में एक अच्छा एग्रीगेटर  होता तो उसने एक नियम बनाये होते. जैसा की अपना ब्लॉग ने बनाया है. अगर हमारी वाणी की शर्तों का उलंघन कोई करता तो उसे चेतावनी देते. और तब जाकर ब्लॉग हटाया जाता. पर नहीं यहाँ तो हिंदी को बढ़ावा देने के नाम पर माफियागिरी चल रही है. हिटलरशाही का बोलबाला है. मोगाम्बो खुश हुआ तो ठीक नहीं तो कूद जाओ तेजाब के ड्रम में, तो भैया एग्रीगेटर के नाम पर तुम्हारी दादागिरी हमें मंजूर नहीं है. हममे क़ाबलियत होगी तो पढने वाले हमें खोज ही लेंगे. हम तुम्हारे अंधे और लंगड़े, बहरे, गूंगे और घूंघट में छिपे  माफियाओ से नहीं डरते. जो किसी को डिच करके रावन जैसी हंसी हँसे. 

हिन्दू कट्टर कैसे........... ? { पढ़े अगले भाग में

नोट------- लगता है हमें कुछ जादा ही लिखना पड़ेगा.   सलीम खान की बात और हरीश सिंह मुसलमान क्यों ? अब चौथे भाग में, गालीया ही सही  पर अपने विचार अवश्य दे. 

11 टिप्‍पणियां:

सलीम ख़ान ने कहा…

KA HO !?

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

ठाकुर साहब ! मालिक आपके जलवे में चार चांद लगाए।
भाई आज हमें खुशी हुई कि कोई तो है जो हमें एक साथ हिंदू और मुसलमान कह सकता है।
इसी के साथ यह भी खुशी हुई कि आपने हिंदी ब्लॉगिंग पर माफ़ियागिरी चलाने वालों के विरूद्ध शंखनाद कर दिया है। आप एक निर्भीक आदमी हैं और बिना किसी लाग लपेट के खरी बात कहने वालों में से हैं, इसीलिए हम आपको पसंद करते हैं। ‘ब्लॉग की ख़बरें‘ आप जैसे वर्चुअल पत्रकार को पाकर धन्य है। आपने ब्लॉग पत्रकारिता को निष्पक्षता और सच्चाई के अलंकारों से आभूषित किया है और जब तक आप जैसे फ्ऱीडम फ़ाइटर इस ब्लॉग वल्र्ड में हैं तब तक किसी ब्लॉग माफ़िया की दाल यहां गलने वाली नहीं है।
ऐसा हमें पूरा विश्वास है।

http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/04/blog-post_10.html

akhtar khan akela ने कहा…

harish bhaai bdhe bdhe shhron me chhote chhote ghtiyaa log ghtiyaa baaten karte hain lekin hmen dr kaahe kaa khuda ne god ne bhgvan ne aap jese bhi kai logon ko hmare liyen bnaayaa hai isliyebn bhaai zrraa nvaazi ke liyen shukriyaa . akhtar khan akela kota rajsthan

अभिषेक ने कहा…

http://abhishekinsight.blogspot.com/2011/04/blog-post_4704.html

milkar rahiya bhaiyon .....
back with my blog..i am jobless but blog ka sahara hi ..jab tak net hai....

आशुतोष ने कहा…

शिकार तो मेरे जैसा आदमी भी बन गया जिसे ब्लोगिंग की लोबिंग अब तक नहीं समझ आई..
थोडा समझा की कुछ एक ध्रुव है कुछ दुसरे ध्रुव पर है..ये दोनों तो सत्य है हरीश भाई मगर कुछ बिच वाले भी आ गए है..लगता है अध्ययन करना पड़ेगा

अभिषेक ने कहा…

Er. ashutosh shayad wo bahurupiya hai.......roop badalane me maahir:)

maine uski vyakhya di hai
http://abhishekinsight.blogspot.com/2011/04/blog-post_2039.html

अभिषेक ने कहा…

jhapatta brother aap pehlwaan hai
aapke saath ham bhi hain....
bas aapki gada aur mere shabd ..manzil ek hi hai

blog jagat me ek accha vatavaran banana...aur sab ko raah dikhana..

bcoz every child is special..
only few can know its speciality like aamir khan....my mother know mine...your mother knows yours...aamir khan se badhkar hain na maa......mere blog par bhi darshan dijiye...
http://abhishekinsight.blogspot.com

अभिषेक ने कहा…

par jhappata ji sach bolte hain dwesh rakhkar aur irshya se kuch nahi hoga

acche man se koi kavita likho
bharat ki shaan rakho
to baat bane..

ab tippani band karta hoon bro...
sabhi padhenge..sabhi badhenge..
jo paap karenge..swaym bharenge...

अभिषेक ने कहा…

sabhi ka samman karna mera uddhesya hai..
aur apni swabhimaan ki raksha karunga
aakhir ham sab bhartiya hain..

sab ko
tamso ma jyotirgamay
asato ma sadgamay
mrityor ma amritamgamay

ka paalan karna chahiye...

mere dost mere baare me batayenge ..
abhi bas abhishek hoon...

main blog jagat me isi mantra ke saath aaya hoon..
aur bas meri kavita bolegi

sab ki raksha ke liye bolegi...

prembhav hi rahega sarvada
chahe mujhe aham ki kurbaani dena pare

mujhe pyar se log kauaa bhi kahte hain..

ye rachna dekhiye...
sab acche hain jhappata ji bhi,jamal ji bhi aap bhi ashhutosh ji bhi
bas boli aur shabdon se nahi gun aur karmon se parakhna chahiye..

sidhi baat ..
ye kavita likhi hai maine
http://abhishekinsight.blogspot.com/2011/04/blog-post_4361.html

किलर झपाटा ने कहा…

आदरणीय बुल्ले बाबा हरीश जी,
आपने बहुत मेहनत से यह पोस्ट लिखी है और मुझे बहुत पसंद आई। आपकी बातों का कुछ कुछ रिप्लाइ देने का मन भी कर रहा है। इसलिये पहले आप अपनी बातें एक दो पोस्टों में और दे दें फिर मैं आपके सम्मान में एक पोस्ट दे देता हूँ। तब तक मैं आपको पढ़ने का मज़ा लिये लेता हूँ। ओ.के. जमाल जी और सलीम भाई को नमस्कार।

किलर झपाटा ने कहा…

अभिषेक भैया, आपको बहुत बहुत धन्यवाद जो आपने सच का मर्म समझा। एक बात है यहाँ पर कोई भी किसी की बातों को दिल से न लगा बैठे यार। किसी का दिल दुखाने को मैं पहलवानी कभी नहीं मानूँगा। ये सिर्फ़ खेल है और धोनी बाबा और शाहिद भाई दोनों ये बात कह चुके हैं खेल को खेल रहने दो। मेरी जानकारी में इन दोनों में से शायद एक हिन्दू और एक मुसलमान ही है ना। अजीब बात है, दोनों बात तो एक ही कर रहे हैं मगर। ही ही।