शुक्रवार, 24 दिसंबर 2010

करोड़ो की जमीन पर कब्ज़ा का प्रयास


भदोही/उत्तरप्रदेश देश में इन दिनों भू माफियाओ के कारनामे चरम पर है ! जहाँ देश में जमीनों के बड़े बड़े घोटाले इन दिनों देखने को मिल रहे है ! वही उत्तर प्रदेश में भी भू-माफियाओ का बोल बाला है और यह सरकारी जमीनों का बन्दर बाट कर रहे है ! ताजा मामला भदोही के महबूबपुर का है ,जहाँ भू-माफियाओ ने फर्जी दस्तावेज बनवा कर ग्राम सभा की करोड़ो की जमीन पर कब्ज़ा कर निर्माण कराने लगे और जब भू-माफियाओ के इस गोरखधंधे की भनक आलाधिकारियो को मिली तो उनके कान खड़े हो गए ! आनन् फानन में एस.डी.एम.भदोही ने मौके पर जाकर निर्माण कार्य को रुकवाया ! लेकिन तब तक भू माफिया वंहा से फरार हो चुके थे ! मामले में SDM ने पुलिस को आरोपियों की गिरफ्तारी के आदेश दे दिए है ! वही इस जमीन के घोटाले में तहसील भदोही के भी कुछ कर्मचारियों की मिली भगत से यह कारनामा हुआ है जिसमे SDM ने जाँच बैठा दी है ! मामला भदोही शहर से सटे महबूबपुर का है ! जहाँ बाई पास पर ग्राम सभा की सरकारी जमीन 60 बिस्वा है ! उसी से सटी चार बिस्बा जमीन लक्ष्मी नारायण और अशोक कुमार को तहसीलदार भदोही ने पट्टा किया था ! लक्ष्मी नारायण जौनपुर का रहने वाला है और अशोक कुमार ( भदोही ) इनकी गिनती पूर्वांचल के बड़े भू माफियाओ में होती है ! अपनी जमीन ग्राम सभा से सटी होने के कारण इन्होने तहसील के कर्मचारियों से मिलकर फर्जी दस्तावेज बनवा लिया ! जिसमे 56 एयर को धांधली कर कागजो में 560 दिखाया गया ! जिसमे 56 के बाद एक शून्य बढाया गया ! और पूरी सरकारी जमीन पर कब्ज़ा कर निर्माण कराने लगे ! शहर और बाई पास से सटी होने के कारण इस जमीन की कीमत करोडो में आंकी जा रही है ! और इस कीमती जमीन पर बहुत दिनों से इन भू माफियाओ की निगाह थी इससे पहले भी इस जमीन के मामले में कई बार महबूबपुर में विवाद हो चुके है !
आप अंदाजा लगा सकते है की किस तरह से भू माफिया सक्रीय है ! अगर हम तहसील कर्मचारियों की मिली भगत की बात करे तो यह उनके बिना मिले संभव ही नहीं है ! जिस तरह से दस्तावेजो में नम्बरों को इधर उधर किया गया है और तहसीलदार ने चार बिस्वा ही जमीन का पट्टा किया और नम्बरों का हेर फेर कर सरकारी जमीन पर कब्ज़ा किया जा रहा था ! यह बिना तहसील के कर्मचारियों की मिली भगत से हो ही नहीं सकता ! इस मामले में तहसीलदार से लेकर लेखपाल ,कानूनगो व अन्य कई अधिकारी जाँच के घेरे में है ! जिसपर SDM ने जाँच बैठा दी है ! और बताया की इस मामले में जो भी दोषों होगा उसके खिलाफ सक्त से सक्त कार्यवाही की जाएगी ! हलाकि अभी तक भू माफिया
लक्ष्मी नारायण और अशोक कुमार फरार है !
जब मौके पर भारी पुलिस बल के साथ एस.डी.एम.भदोही गए तो वहा रातो रात निर्माण कार्य इतनी तेजी से कराया गया की लगभग आधी से ज्यादा जमीन पर चार दीवारी बना ली गयी थी ! और 50 से ज्यादा मजदूर लगे थे ! मौके पर काम करा रहे लोगो से जब पूछा गया की आपकी जमीन तो चार बिस्वा ही है तो पूरी जमीन पर कैसे चार दीवारी बनाई जा रही है ! तो उन्होंने बताया की लक्ष्मी नारायण और अशोक कुमार की जमीन है ! उसी का काम हो रहा है और उतनी ही जमीन घेरी जा रही है जब यह पूछा गया की दीवारी तो 60 बिस्बा में हो रही है वो कोई जबाब उनके पास नहीं था ! और वह अपने आप को बचाते दिखे !
इस समय प्रदेश में भू माफियाओ की नजर उन जमीनों पर है जो सोनी की कीमत की है ! अगर देखा जाय तो व्योसाय ऐसा है की सोने की तरह जमीनों की कीमत है ! यह भू माफिया कुछ सरकारी कर्मचारियों की मिली भगत से बहुत कम पैसा लगाकर कौड़ियो के भाव में जमीन पर कब्ज़ा कर उसी जमीन को सोने के भाव बेचते है ! और यह गोरख धंधा पूर्वांचल में इन दिनों बड़े भू माफियाओ के संरक्षण में फल फूल रहा है ! अगर यदा कदा कभी प्रशासन की आँख खुली तो कार्यवाही हो जाती है नहीं तो यह भू माफिया करोडो में खेलते है ! और भदोही में जिस तरह से तहसील के कर्मचारियों की मिली भगत पाई गयी है तो यह साफ़ दिखाता है की किस तरह से सरकारी अधिकारी मिल कर सरकारी जमीनों का बन्दर बाट कर रहे है !

कोई टिप्पणी नहीं: