शनिवार, 29 मई 2010

अमीर का कुत्ता गरीब का बच्चा




है न अजीब सा शीर्षक, भला बताइए अमीर के कुत्ते और गरीब के बच्चे में भी कोई समानता हो सकती है, भाई वो अमीर का कुत्ता है. शानो-शौकत से रहने की उसकी आदत तो होगी  ही, आज सुबह जब मैं सो कर उठा और बाहर निकला तो हमारे गेट के सामने कूड़े के ढेर से कागज उठा एक बच्चा मुझे देखकर सहम गया, जैसे वो कोई चोरी करते हुए पकड़ा गया हो, उसकी आँखों में दया याचना देख मैं खुद ही सिहर उठा,  मैं सोचने लगा अभी हम लोंगो के बच्चे सोकर भी नहीं उठे है और यह बच्चा दो रोटी के जुगाड़ के लिए अपने मासूम कंधो बोरी उठाये रद्दी कागज बीनने निकल पड़ा है. जी हा भदोही कालीन नगरी के रूप में पूरे विश्व में विख्यात है, करोडो के कालीन यहाँ से निर्यात किये जाते हैं, पर उन्ही कालीनो में अपनी कलात्मकता का रंग भरने वाले मजदूर अपने बच्चों के लिए भरपेट भोजन का भी इंतजाम नहीं कर पाते,  सुबह सबेरे रोजाना कालीन नगरी सडको पर तमाम ऐसे बच्चे दिखाई पड़ते हैं जो कूड़े के ढेर पर दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करते है.  कल एक समाचार पढ़ा था, आँध्रप्रदेश के बाद उत्तरप्रदेश दूसरा राज्य है जहा दलितों पर सबसे अधिक अत्याचार हुए है. अफ़सोस की बात तो यह है की दलितों के नाम पर बनी बसपा सरकार भी इनके दुखो को दूर नहीं कर पाई है. केंद्र व् प्रदेश की सरकारे सर्व शिक्षा अभियान का नारा लगाकर करोडो रूपये पानी की तरह बहा रही है किन्तु यह पैसा कहा जा रहा है कहने की बात नहीं है. आज भी  लाखों बच्चे ऐसे हैं जो स्कूल का मुह नहीं देख पाए हैं., पिछले दिनों एक किताब के बिमोचन समारोह में मुझे बोलने के लिए बुलाया गया, मैं ऐसे मौको पर बोलने से बहुत घबराता हू क्योंकि झूठ  बोल नहीं सकता और सच बोलने पर लोग नाराज हो जाते है. , फ़िलहाल फंसा तो था ही लिहाजा बोलना पड़ा, जब मैंने कहा की भदोही में करोडपति लोग रहते हैं. गेट के अन्दर जाइये तो  संगमरमर बिछे है. जबकि बाहर नालियां बजबजा रही है. इसके लिए लोग नगर पिलिका की तरफ मुह उठाये रहते है, बस क्या था लोगो को बुरा लग गया, खुसुर फुसुर शुरू हो गयी, लोगो की गुस्से भरी निगाहे मेरे ऊपर उठ गयी,.. बस चुप हो जाता तो ठीक था लेकिन क्या करे दिल मन ही नहीं... फिर बोल उठा नगर में समाज सेवियों की भरमार है लेकिन कितने मरीज सरकारी अस्पताल में इलाज कराते-कराते दम तोड़ देते है. हे भगवान संचालक घूर रहा है हट जाता हूँ........
मैं आपसे पूछता हूँ क्या इन मासूमो को अपना बचपन खेलकर बिताने का हक़ नहीं है, इन्हें स्कूल जाने का हक़ नहीं है? क्या अमीर के कुत्ते को देखकर यह नहीं सोचते होंगे की अगले जनम में................

1 टिप्पणी:

राकेश कौशिक ने कहा…

जरुर सोचते होंगे शायद
कड़वा सच